उत्तर भारतीयों के खिलाफ हिंसा के बाद हजारों प्रवासी श्रमिकों ने छोड़ा गुजरात